सांसद सावित्री बाई फुले ने भाजपा से दिया इस्तीफा, कहा पार्टी ‘दलित विरोधी’  

By Suno Neta Team Thursday 6th of December 2018 07:55 PM
(0) (0)

साबित्री बाई फुले

नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश के बहराइच से लोकसभा सांसद साबित्री बाई फुले ने भारतीय जनता पार्टी से गुरूवार को इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने पार्टी पर कई गंभीरआरोप लगाए जिनमे उन्होंने कहा कि मौजूदा सरकार दलित विरोधी है। उन्होंने आरोप लगाए कि सरकार दलितों के लिए संविधान में वर्णित आरक्षण को ख़त्मकरना चाहती है।

 फुले ने आगे कहा कि बाबा साहेब भीम राव अंबेडकर एक दलित थे इसीलिए भाजपा उनके द्वारा बनाये गए कानून को बदलने का प्रयास कर रही है। वर्तमानभाजपा सरकार दलितों और पिछड़े वर्गों का शोषण करना चाहती है यह गरीबों और पिछड़ों की हितैषी नहीं है। 

 इस्तीफा देने के बाद उन्होंने स्पष्ट किया कि वह अपना 5 साल का कार्यकाल पूरा होने तक सांसद रहेंगी।अभी उन्होंने सिर्फ पार्टी की प्राथमिक सदस्यता सेइस्तीफा दिया है। फुले अक्सर पार्टी के विरुद्ध बयान देने के कारण चर्चा में रही हैं लेकिन यह पहली बार है जब उन्होंने पार्टी से इस्तीफा देने का एलान किया है।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के द्वारा हनुमान को दलित बताए जाने पर उन्होंने कहा, “हनुमान जी दलित थे लेकिन मनुवादियों के खिलाफ थे।तभी राम ने उन्हें बंदर बना दिया।” वहीं, राम मंदिर पर फुले ने कहा, “दलितों को मंदिर नहीं संविधान चाहिए। देश संविधान से चलेगा, मनुस्मृति से नहीं।”

फुले ने आगे कहा कि भाजपा बहुजनों के हित में कोई कार्य नहीं कर रही है। यहां तक कि समतामूलक समाज की स्थापना करने वाले बाबा साहेब की प्रतिमातोड़ने वालों के खिलाफ भी कोई कार्रवाई नहीं की गई। अगर सरकार आरक्षण को ख़त्म करने का प्रयास करती है तो यह बहुजन समाज स्वीकार नही करेगा।


 

अपना कमेंट यहाँ डाले