जस्टिस शरद अरविंद बोबड़े ने 47-वें CJI के रूप में शपथ ली 

Team Suno Neta  Monday 18th of November 2019 08:09 PM
(0) (0)

न्यायमूर्ति एसए बोबड़े (दाएं) को राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद (बाएं) द्वारा 47-वें CJI के रूप में पद की शपथ दिलाई गई।

नई दिल्ली: भारत के पूर्व मुख्या न्यायधीश (CJI) रंजन गोगोई के सेवानिवृत्त होने के बाद उच्चतम न्यायालय में सबसे वरिष्ठ न्यायाधीश न्यायमूर्ति शरद अरविंद बोबड़े ने सोमवार को राष्ट्रपति भवन में एक समारोह में भारत के 47-वें मुख्य न्यायाधीश के रूप में शपथ ली। राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने उनको यह शपथ दिलाई। CJI बोबडे 23 अप्रैल, 2021 तक देश के मुख्या न्यायाधीश का पद संभालेंगे।

न्यायमूर्ति बोबड़े, जिनका जन्म 24 अप्रैल, 1956 को नागपुर में एक वकीलों के परिवार में हुआ। उनके दादा एक वकील और पिता 1980 के दशक की शुरुआत में महाराष्ट्र के अटॉर्नी जनरल थे।

न्यायमूर्ति बोबडे का कानून में विशिष्ट कैरियर था। उन्होंने एसएफएस कॉलेज नागपुर में स्नातक की पढ़ाई पूरी की और 1978 में नागपुर स्थित डॉ अंबेडकर लॉ कॉलेज से कानून की पढ़ाई की। उन्होंने 1978 के सितंबर में एक वकील के रूप में दाखिला लिया जहाँ वह बॉम्बे हाई कोर्ट की नागपुर बेंच में प्रैक्टिस किए। वह 1998 में एक वरिष्ठ वकील बने।

मार्च 2000 में, जस्टिस बोबडे को बॉम्बे उच्च न्यायालय के एक अतिरिक्त न्यायाधीश के रूप में नियुक्त किया गया था। फिर वह अक्टूबर 2012 में मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश बने और 12 अप्रैल, 2013 को जल्द ही भारत के सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश के रूप में पदोन्नत हुए।

47-वे CJI के रूप में शपथ लेने के तुरंत बाद न्यायमूर्ति बोबडे ने एक खुली अदालत का आयोजन किया और कुछ फैसले लिए। इनमें पूर्व केंद्रीय वित्तमंत्री रहे पीसी चिदंबरम – जो आईएनएक्स मीडिया घोटाला मामले में उनकी कथित संलिप्तता के लिए 90 दिनों से अधिक समय तक हिरासत में है – का प्रतिनिधित्व करने वाले कपिल सिब्बल द्वारा दायर की गई जमानत अर्जी थी। CJI ने सिब्बल की याचिका पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, “या तो कल या परसों।”


 
 

रिलेटेड

 
 

अपना कमेंट यहाँ डाले